What is Forensic Science?:फॉरेंसिक साइंस क्या है? (forensic science courses)

What is Forensic Science?:फॉरेंसिक साइंस क्या है?,फॉरेंसिक साइंस में भविष्य कैसे बनाएं?(How to make a future in forensic science)फोरेंसिक साइंस में वैज्ञानिक कैसे बनें(How to become a scientist in forensic science) आइयें जानें फोरेंसिक साइंस में करियर कैसे बनाएं(How to make a career in forensic science) Forensics Online Course

यदि आप घटनाओं की तह तक जाने और विज्ञान का अध्ययन करने में रुचि रखते हैं, तो विश्वास करें कि आप फोरेंसिक विज्ञान में अपना करियर बना सकते हैंHome Phone Internet Bundle PHD on Counseling Education

What is Forensic Science? : फॉरेंसिक साइंस क्या है?

आज विज्ञान की शाखाएं हर क्षेत्र में विज्ञान के उपयोग के कारण लगातार बढ़ रही हैं. स्वयं विज्ञान की एक शाखा, फॉरेंसिक विज्ञान का उपयोग भारत जैसे देश में भी तेजी से बढ़ा है. इसके उपयोग को देखते हुए, इस क्षेत्र में रोजगार के कई विकल्प हैं.

यह पेशेवर नई तकनीकों का उपयोग करते हुए खोजी साक्ष्य का उपयोग करते हैं और अपराधी को पकड़ने में मदद करते हैं. यह एक अपराध प्रयोगशाला आधारित नौकरी है जिसमें साक्ष्य का विश्लेषण किया जाता है.अपराधियों की धरपकड़ में फॉरेंसिक साइंस का महत्व बढ़ता ही जा रहा है. इसे देखते हुए इस फिल्ड में नौकरियों की संभावना अधिक है.

फ्यूचरिस्टिक आर्किटेक्चर (Futuristic Architecture) फोरेंसिक साइंस में करियर बनाने के लिए कई विकल्प हैं. दुनिया में बढ़ते अपराध की जड़ों तक जाने के लिए, आप इस क्षेत्र में अध्ययन करके अपना सुनहरा भविष्य बना सकते हैं. इस क्षेत्र में अपराधी को पकड़ने के लिए फोरेंसिक जांच की जाती है. आजकल फोरेंसिक विज्ञान कानून का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है. इसके बिना कानूनी प्रक्रिया अधूरी है. तो चलिए जानते है फॉरेंसिक साइंस क्या है?(What is Forensic Science?) Mortgage Adviser

यह भी पढ़े: Car Insurance Quotes PA

फॉरेंसिक साइंस क्या है ?:What is Forensic Science? 

फॉरेंसिक साइंस के माध्यम से अपराध करनेवाले शख्स के बारे में सबूतों की खोज करने के लिए वैज्ञानिक तकनीक का उपयोग किया जाता है. बातें करने में एक्सपर्ट, लिखने की स्किल अच्छी होना चाहिए क्यों की कोर्ट में उने ही सबूत पेश करने होते है. पुलिस, इन्वेस्टिगेटिव में नौकरी कर सकते है. फॉरेंसिक साइंस करने के बाद इंटेलिजेंट ब्यूरो, सीबीआई में नौकरी के विकल्प रहते है. यह लैब्रोटरी आधारित जॉब है. इस क्षेत्र में काम करनेवाले को फॉरेंसिक साइंस साइंटिस्ट कहते है.

कौशल:Skills

एक फोरेंसिक वैज्ञानिक हर जगह एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. बढ़ते क्राइम ग्राफ के कारण इस क्षेत्र में करियर बनाने के अधिक विकल्प हैं. चूंकि यह अनुसंधान का एक विज्ञान-उन्मुख क्षेत्र है, इसलिए वैज्ञानिक, विद्वान और शोधकर्ता भी इसमें बहुत रुचि रखते हैं, लेकिन इस क्षेत्र में प्रवेश करने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातों पर विचार करना महत्वपूर्ण है.

  • सावधानीपूर्वक कार्य, बुद्धिमत्ता, टीम वर्क, तार्किक और तर्कसंगत कार्य विशेषताएं.
  • साइंस की अच्छी समझ.
  • वैज्ञानिक विश्लेषण करने की क्षमता होना भी आवश्यक है.
  • प्रयोगशाला में काम करने के लिए आंखों की रोशनी भी सही होनी चाहिए.
  • साइंस की अच्छी समझ.
  • आपकी कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं होनी चाहिए.
  • लैब्रोटरी जांच के लिए दिमागी रूप से तैयार.
  • धैर्य का होना है जरूरी.
  •  काम के प्रति एकाग्रता.

फॉरेंसिक साइंस के लिए शैक्षणिक योग्यता : Educational Qualification for Forensic Science 

  • फोरेंसिक साइंस में प्रवेश के लिए 12th में साइंस होनी ज़रूरी है क्यों की फोरेंसिक साइंस में ग्रेजुएशन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.
  • फॉरेंसिक साइंस में MA करने के लिए छात्र को ग्रैजुएशन में 60 प्रतिशत अंकों के साथ फिजिक्स, कैमिस्ट्री, बॉटनी, बॉयोकेमिस्ट्री, माइक्रोबायॉलजी, बी.फार्मा, बी.डी.एस अथवा अप्लाइड साइंस में ग्रैजुएशन होना जरूरी है. Car Insurance in South Dakota

यह भी पढ़े:

फॉरेंसिक साइंस कॉलेज फीस:Forensic Science College Fees  

  • सरकारी कॉलेज और निजी कॉलेज के अनुसार फ़ीस निर्धारित रहती है.Register Free Domains
फॉरेंसिक साइंस कोर्स:forensic science courses

निम्नलिखित कोर्स में से एक कोर्स का चुनाव करके आप अपना भविष्य बना सकते है.

  • B.A. Criminology
  • M.A. Criminology
  • M.A. Criminology and Criminal Justice Administration
  • B.Sc. Forensic Science
  • M.Sc. Criminology
  • M.Sc. Cyber Forensics and Information Security
  • M.Sc. Forensic Science
  • MD in Forensic Science (after MBBS)
  • Ph.D. Criminology and Criminal Justice Administration
  • Post Graduate Diploma in Criminology and Forensic Science
  • Post Graduate Diploma in Criminology and Police Science
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा Digital and Cyber Forensics and Related Laws
  • Post Graduate Diploma in Forensic Science and Related Laws
  • Post Graduate Diploma in Forensic Speech Sciences and Technology
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा Criminology and Penology
  • Diploma in Criminology
  • Diploma in Finger Print Examination
  • डिप्लोमा Forensic Science and Criminology
  • Certificate Course in Forensic Science Expert

यह भी पढ़े:

फोरेंसिक साइंस में करियर के विकल्प:Career Options in Forensic Science 

अपराध स्थल जांच-Crime Scene Investigation

अपराध स्थल जाँच के क्षेत्र में प्रवेश पाने के लिए आपको फोरेंसिक जांच में डिप्लोमा या डिग्री या विश्लेषणात्मक रसायन विज्ञान में डिग्री होना अनिवार्य है.साक्ष्य से संबंधित वस्तुओं का सुरक्षा, निर्धारण और संग्रह करना, साक्ष्यों के विस्तार में जाना और यथासंभव चल रही घटनाओं का पुनर्निर्माण करना. अपराध स्थल की जांच का क्षेत्र बहुत विस्तृत है.

Forensic Pathology-फोरेंसिक पैथोलॉजी

मेडिकल की डिग्री (एम.बी.बी.एस) एम.डी. के साथ या फॉरेंसिक साइंस में पोस्ट ग्रैजुएट होने के बाद ही आप फोरेंसिक पैथोलॉजी में प्रवेश के लिए पात्र रहते है. इस क्षेत्र में आत्महत्या से लेकर पोस्टमार्डम रिपोर्ट तक जाँच करना होता है. यदि किसी मुर्दे को निकालना पड़े तो सबूत के लिए दफन कियेगये मुर्दे को भी निकालना पड़ता है. उनके हड्डियों, बाल. नाख़ून, ब्लड, फिगरफ्रिंड आदि से सबूत इकट्ठा किया जाते है और अपराधी को सजा तक पहुंचाते है.

फोरेंसिक नृविज्ञान-Forensic Anthropology

फोरेंसिक नृविज्ञान के क्षेत्र में मानव कंकाल का अभ्यास किया जाता है. इस क्षेत्र में कोई व्यक्ति प्लेन दुर्घटना , विस्फोटक पदार्थ या फिर दफन किये मुर्दो को कुछ सालों बाद निकालना और कंकाल की जाँच करने के लिए. यह व्यक्ति पुरुष या स्त्री आदि के बारे में जाँच करते है. इसके लिए आपके पास पीएच.डी. नृविज्ञान में डिग्री के साथ-साथ शरीर के अंगों (शरीर रचना) और अस्थि संरचना (अस्थि विज्ञान) का अध्ययन करना आवश्यक है. इनके अलावा, मेडिकल की डिग्री, पीजी के साथ होनी चाहिए.

Forensic Psychology-फोरेंसिक मनोविज्ञान

इस क्षेत्र में अपराधी की मानसिक स्थिति सही है या नहीं क्यों की अपराधी को कोर्ट में पेश करना पड़ता है इसके लिए अपराधी के मानसिक स्थिति को जानना आवश्यक रहता है.

Employment:रोजगार 
  • क्राइम सीन इन्वेस्टिगेशन (Crime Scene Investigation)
  • फोरेंसिक पैथोलॉजी (Forensic Pathology)
  • फोरेंसिक एंथ्रोपोलॉजी(Forensic Anthropology)
  • Forensic डेंटिस्ट्री (Forensic Dentistry)
  • फोरेंसिक एंटोमोलॉजी (Forensic Entomology)
  • फोरेंसिक सीरोलॉजी (Forensic Serology)
  • Forensic केमिस्ट (Forensic Chemist)
  • फोरेंसिक इंजीनियर (Forensic Engineer)
  • फोरेंसिक आर्टिस्ट व स्कल्पचर (Forensic Artist and Sculpture)
  • टॉक्सिकोलॉजी (Toxicology)
फोरेंसिक विज्ञान संस्थान:Forensic Science Institute
  • इंस्टीटयूट ऑफ फोरेंसिक साइंस, मुंबई 
  • सेंट्रल फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी, हैदराबाद
  • सेंट्रल फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी, चंडीगढ़
  • डॉ. भीमराव अम्बेडकर यूनिवर्सिटी, आगरा
  • गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • इंस्टीट्यूट ऑफ फोरेंसिक साइंस ऐंड क्रिमिनोलॉजी, बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी
  • डिपार्टमेंट ऑफ फोरेंसिक साइंस, पंजाब यूनिवर्सिटी
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी

यह भी पढ़े:

Postscript: 

Post Name: फॉरेंसिक साइंस क्या है? (What is Forensic Science?) 

Description: इस क्षेत्र में नौकरियों की बहुत संभावना है. नौकरी पाने के लिए एक नहीं, बल्कि अधिक विकल्प  हैं. जहां आप इस कोर्स से संबंधित नौकरी आसानी से पा सकते हैं. यहां आप अपने सपनों को उड़ान दे सकते हैं.

Author: शीतल

Leave a Reply

error: Content is protected !!