Create a future in BSc:बीएससी में भविष्य बनाएं (future of bsc)

बीएससी पूरी दुनिया में सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला सेक्टर है और इसी के चलते यहां नौकरियों के ज्यादा मौके भी मौजूद हैं. अगर बीएससी सेक्टर में करियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं तो जान लें ये जरूरी बातें. Create a future in BSc  

B.sc क्या है? (What is B.Sc ?), B.Sc में करियर कैसे बनाएं? (How to make a career in B.Sc.), B.Sc में रोजगार के अवसर क्या है? (What are the employment opportunities in B.Sc?) आइयें जाने बीएससी में भविष्य बनाएं (Let’s know to create a future in B.Sc.), future of bsc.

Create a future in BSc:बीएससी में भविष्य बनाएं

बीएससी विज्ञान स्नातक छात्रों को कैरियर के विकास के लिए कई अवसर मिलते हैं और आजकल विज्ञान और प्रौद्योगिकी के निरंतर विकास के साथ, अब विज्ञान के क्षेत्र में कई अन्य विशेष कैरियर विकल्प उभर रहे हैं. इस लेख में बीएससी स्नातकों के लिए कुछ विशेष कैरियर विकल्प और बीएससी पाठ्यक्रम करने के फायदों पर चर्चा की जा रही है. Create a future in BSc

जब हम 11, 12 वीं की पढ़ाई कर रहे होते हैं, तब मन में यह सवाल आता है कि बीएससी क्या है? B.Sc. का अध्ययन करने से क्या होता है। क्या आप B.Sc में अपना करियर बना सकते हैं? शुरुआती सवाल दिमाग में आते थे.Create a future in BSc

छात्र अक्सर एक शीर्ष कॉलेज से अपने वांछित शैक्षणिक पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाना चाहते हैं. लेकिन वहाँ केवल 3 क्षेत्र हैं. विज्ञान, वाणिज्य और कला. आज भी, अधिकांश छात्र सामान्य कॉलेज से इंजीनियरिंग या एमबीबीएस कोर्स के बजाय एक अच्छे विश्वविद्यालय से बी.एससी कोर्स करना पसंद करते हैं क्योंकि बी.एससी करने के अधिक फायदे हैं.

इसी तरह, आज, जब विज्ञान और प्रौद्योगिकी पूरी दुनिया में अभूतपूर्व प्रगति कर रहे हैं, ऐसे देश में बीएससी के छात्रों के लिए कई विशेष कैरियर विकल्प और बहुत ही आशाजनक अवसर हैं. इस लेख में, हम बीएससी के छात्रों के लिए भारत में उपलब्ध विशेष कैरियर / नौकरी के विकल्पों पर चर्चा कर रहे हैं, साथ ही साथ छात्रों को बीएससी स्नातक के लाभों के बारे में सूचित कर रहे हैं. Create a future in BSc

यह भी पढ़े :

बीएससी परिभाषा:B.Sc.Definition 

  • B.Sc का पूरा नाम:- बैचलर ऑफ़ साइंस (Bachelor Of Science)
  • विज्ञान में बीएससी क्षेत्र बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह छात्रों का भविष्य बनाता है. इस क्षेत्र में 80% छात्र 12 वीं के बाद प्रवेश के लिए आवेदन करते हैं. बीए और बी.कॉम क्षेत्रों की तुलना में बी.एस.सी क्षेत्र अच्छा है क्योंकि करियर विकल्प अधिक हैं.
  • बी.एससी क्षेत्र से डिग्री प्राप्त करने का मतलब है कि आपके पास नौकरी पाने के लिए अधिक विकल्प हैं. सरकारी और निजी संस्थानों में स्नातक की डिग्री आवश्यक है, लेकिन बी.एससी क्षेत्र की डिग्री के लिए नौकरियां अधिक हैं. Create a future in BSc 

बीएससी प्रवेश  कैसे करे:How to apply for B.Sc

  •  B.Sc में प्रवेश लेने के लिए 12th में 45% से 50 % अंक के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • एंट्रेस एग्जाम अच्छे अंको के साथ पास होना चाहिए क्यों की कॉलेज अच्छा मिलेगा.
  • कुछ कॉलेज आपके 12th के मेरिड के अंको के आधार पर भी प्रवेश देते है.
  • PCM, PCB और PCMB ग्रुप के नुसार एक ग्रुप का चुनाव करना पड़ता है.
  • आप एक क्षेत्र का चुनाव करके honors प्राप्त कर सकते है. Create a future in BSc

बीएससी कोर्स:BSc course

बीएससी में, आप निम्नलिखित पाठ्यक्रम करके अपना भविष्य बना सकते हैं.

B.Sc. Honours: बीएससी (ऑनर्स) पाठ्यक्रम, तीन साल का कोर्स, (PCM, PCB और PCMB) आदि ग्रुप से एक ग्रुप का चुनाव कर सकते है.

भौतिकी(Physics), रसायन विज्ञान (Chemistry), जीवविज्ञान (Biology) और गणित (Mathematics) सहित विज्ञान के विशेष ज्ञान में व्यापक ज्ञान प्रदान करता है. बीएससी (ऑनर्स) पाठ्यक्रम के प्रवेश आम तौर पर 10 + 2 स्तर के छात्रों प्रवेश कर सकते हैं.

शैक्षणिक योग्यता:12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण.

आयु: 17वर्ष से अधिक होनी चाहिए. Create a future in BSc

समय सीमा: यह कोर्स 3 वर्ष की अवधि का है.

फीस:50,000 से 3 लाख रूपए तक.

प्रवेश प्रक्रिया: कुछ सस्थानो एंव राज्यों में इसमें प्रवेश लेने के लिए एंट्रेस एग्जाम भी होते है.

बीएससी विषय:

  • Biology
  • Botany
  • Biochemistry
  • Computer Science
  • Chemistry
  • Electronics
  • Mathematics
  • Environmental Science
  • Zoology
  • Physics
B.Sc. IT:बीएससी आईटी

कंप्यूटर, इंटरनेट, वेबसाइट, ईमेल और ई-कॉमर्स जैसे आधुनिक विकास आईटी के अंतर्गत आते हैं. आज हम अपने आस-पास की तकनीक में जो चमत्कार देख पा रहे हैं, वह सूचना एकत्र करने की तकनीक में प्रगति के कारण संभव हो पाया है..यही कारण है कि आईटी को सूचना सुपरहाइववे के रूप में जाना जाता है, जो हमारे लिए दुनिया भर में प्रौद्योगिकी और सूचना तक पहुंचने का मार्ग खोलता है.

वर्तमान में, देश में आईटी क्षेत्र में प्रशिक्षित लोगों की मांग बहुत अधिक है, जबकि आपूर्ति तुलना में बहुत कम है. हर जगह सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर प्रशिक्षण केंद्र और कॉलेज खोलने के बावजूद, मांग पूरी नहीं हो रही है. इस सेक्टर में 12 वीं के बाद एक से ढाई साल तक जॉब ओरिएंटेड कोर्स (विशेषकर हार्डवेयर-नेटवर्किंग से संबंधित) करके एडमिशन पाया जा सकता है. इस तरह के पाठ्यक्रम लगभग हर शहर में उपलब्ध हैं.

सूचना प्रौद्योगिकी एक ऐसा विभाग है, जहाँ कंप्यूटर की जानकारी की हमेशा आवश्यकता होती है. आईटी कंपनियों में इन लोगों की मांग लगातार बढ़ रही है.

IT कोर्स की जानकारी:

आईटी इंजिनयरिंग कोर्स:- Computer Science, Electronics and Communications. Software programming.

आईटी कोर्स: बीटेक सूचना प्रौद्योगिकी (B.Tech Information Technology), Computer Applications, Mobile Application Development

शैक्षणिक योग्यता: छात्र एक मान्यता प्राप्त बोर्ड से अपनी 12 वीं विज्ञान स्ट्रीम ( फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स (PCM) सब्जेक्ट्स का होना जरूरी है) स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद इस कोर्स को कर सकते हैं

आयु सिमा : 17वर्ष से उपर होनी चाहिए.

समय सिमा: 3 वर्ष

फीस: 1,00,000 से 4 लाख रूपए तक.

प्रवेश प्रक्रिया: कुछ राज्यों में एडमिशन के लिए एंट्रेस एग्जाम और कुछ संस्थानों में मैरिट के अनुसार एडमिशन मिलता है.

यह भी पढ़े :

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन यानी बीसीए और बीएससी (आईटी या कंप्यूटर साइंस) तीन साल के कोर्स हैं और ये कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में उपलब्ध हैं.

विशेष बात यह है कि इन सभी पाठ्यक्रमों को करते समय, अधिकांश कंपनियां अंतिम वर्ष में ही कैंपस सेलेक्शन के माध्यम से छात्रों का चयन करती हैं और उन्हें अपनी कंपनी के वातावरण के अनुसार कुछ समय का प्रशिक्षण देती हैं. कैंपस सेलेक्शन के दौरान, कंपनियां हर साल कम से कम 4 लाख रुपये का पैकेज देती हैं.

शैक्षणिक योग्यता: 12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: 3 वर्ष.

फीस: 20,000 से 30,000 रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम/ मैरिट लिस्ट के अनुसार.

B.Sc. Chemistry:बीएससी रसायन विज्ञान

रसायन विज्ञान में रुचि रखने वाले छात्र अच्छे अंकों के साथ 12 वीं कक्षा (विज्ञान) उत्तीर्ण करने के बाद रसायन विज्ञान में पांच साल के एकीकृत मास्टर कार्यक्रम का विकल्प चुन सकते हैं या रसायन विज्ञान में बीएससी / बीएससी (ऑनर्स) डिग्री कोर्स का विकल्प चुन सकते हैं.

बाद में, आप विश्लेषणात्मक रसायन विज्ञान, अकार्बनिक रसायन विज्ञान, हाइड्रोकैमिस्ट्री, फार्मास्युटिकल रसायन विज्ञान, पॉलिमर रसायन विज्ञान, जैव रसायन, चिकित्सा जैव रसायन और वस्त्र रसायन विज्ञान में विशेषज्ञता हासिल करके एक मजबूत कैरियर शुरू कर सकते हैं.

शैक्षणिक योग्यता: 12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: 3 वर्ष.

फीस: 50,000 /- से 1,00,000 /- लाख रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम या फिर मैरिट के अनुसार.

B.Sc. Mathematics: बीएससी रसायन विज्ञान

B.sc मैथ्स में करियर एक बेहतरीन विकल्प है. इसमें रोजगार के कई अवसर हैं. जिसमें आप अच्छा भविष्य बना सकते हैं. बीएससी गणित कैरियर में इंजीनियर बनने के लिए कई विकल्प हैं. इसकी डिग्री प्राप्त करने के बाद, आप किसी भी तरह के व्यवसाय की इंजीनियरिंग का अध्ययन कर सकते हैं.

इंजीनियर होने के अलावा, आप कई अन्य क्षेत्रों में भी सरकारी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं. इसका अध्ययन थोड़ा कठिन है. इसके कारण, इस क्षेत्र पर लोगों का रुझान थोड़ा कम है, लेकिन जो छात्र कुछ करना चाहते हैं, वे कुछ बनना चाहते हैं, वे केवल विज्ञान के साथ अध्ययन करते हैं.

शैक्षणिक योग्यता: 12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: 3 वर्ष.

फीस: 50,000 /- से 1,00,000 /- लाख रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम या फिर मैरिट के अनुसार.

विषय:

  • MSc
  • Btech
  • Bed
  • It sector
  • Scientific assistant
  • Technical Writer
  • MBA
  • MCA
  • SAP
  • SQL
  • Java
  • Journalism
  • Mass communication
B.Sc. Physics:बीएससी भौतिक विज्ञान

बीएससी (ऑनर्स) भौतिकी में 3 वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम है. जो उम्मीदवार इस कोर्स को करने के इच्छुक हैं, उनके पास किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड स्कूल में विज्ञान स्ट्रीम में उनके 10 + 2 या समकक्ष परीक्षाओं में न्यूनतम 50% अंक होने चाहिए. इस पाठ्यक्रम की प्रवेश प्रक्रिया उनके हाई स्कूल परीक्षा में उम्मीदवार के प्रदर्शन के आधार पर की जाती है. कुछ संस्थान पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अपनी प्रवेश परीक्षा भी आयोजित कर सकते हैं. पाठ्यक्रम की अवधि न्यूनतम 3 वर्ष और अधिकतम 6 वर्ष है.

शैक्षणिक योग्यता: 12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: 3 वर्ष.

फीस: 70,000 /- से 1,00,000 /- लाख रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम या फिर मैरिट के अनुसार.

B.Sc. Nautical Science: बीएससी समुद्री विज्ञान

नौसेना में एक नेविगेशन अधिकारी बनने के लिए, नॉटिकल साइंस में स्नातक होना चाहिए. बीएससी नॉटिकल साइंस या मैरीटाइम साइंस कोर्स करने के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स और इंग्लिश में 12 वीं पास होना जरूरी है. यात्रा के दौरान, जहाज का जलमार्ग, पुल से जहाज नियंत्रण, नौकायन, बर्थिंग, डॉकिंग, डॉकिंग, डॉक गतिविधियों के साथ कार्गो के सभी लोडिंग और अनलोडिंग के लिए समुद्री चार्ट का अध्ययन. इस विषय में B.Sc करने के बाद, आप नेवी में नेविगेशन ऑफिसर के रूप में करियर शुरू कर सकते हैं.

शैक्षणिक योग्यता: 12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: 3 वर्ष.

फीस: 3,00,000 /- से 7,00,000 /- लाख रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम या फिर मैरिट के अनुसार.

यह भी पढ़े : 

B.Sc. Electronics:बीएससी इलेक्ट्रॉनिक्स

यह विषय क्षेत्र अपने सभी पहलुओं के साथ-साथ अपने अनुप्रयोगों में इलेक्ट्रॉनिक्स में बहु-विषयक शिक्षण प्रदान करता है. शिक्षण एनालॉग और डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक्स में एक नींव प्रदान करता है, जो विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक प्रणालियों के अध्ययन की समझ के लिए आवश्यक है. यह छात्रों को कंप्यूटर विज्ञान, गणित और भौतिकी में महत्वपूर्ण ज्ञान प्राप्त करने की अनुमति देता है जो इलेक्ट्रॉनिक्स में शिक्षण के लिए पूरक है. यह 3 साल का कोर्स है और इसे 6 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है.

शैक्षणिक योग्यता: 12वीं विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: 3 वर्ष.

फीस: 50,000 /- से 1,00,000 /- लाख रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम या फिर मैरिट के अनुसार.

B.Sc. Electronics and Communication:बीएससी इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार

इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग डिग्री पूरा करने के बाद छात्रों को आसानी से विनिर्माण उद्योगों और सेवा संगठनों जैसे रोजगार, परामर्श, डेटा संचार, मनोरंजन, अनुसंधान और विकास में रोजगार के अवसरों का लाभ मिल सकता है और सिस्टम समर्थन उम्मीदवार आधुनिक मल्टीमीडिया सेवा फर्मों में भी काम कर सकते हैं.जो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और इंटरनेट प्रसारण के जरिए जानकारी के वास्तविक समय में शामिल हैं.

BCA : बीसीए

आईटी और कंप्यूटर का क्षेत्र एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें कई छात्र करियर बनाने का सपना देखते हैं। यदि आप कंप्यूटर में रुचि रखते हैं और यदि आप 12 वीं के बाद कंप्यूटर के क्षेत्र में आना चाहते हैं, तो BCA प्रारंभिक और सबसे अच्छा विकल्प है. यह एक अंडरग्रेजुएट प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है यानी यह ग्रेजुएशन के बराबर है.

BCA Full Form: बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (Bachelor of Computer Applications)

शैक्षणिक योग्यता: 12 वीं में 50% अंकों के साथ साइंस / मैथ पास किया है, वह इस कोर्स को कर सकता है.

आयु सिमा: 17 वर्ष.

समय सिमा: बीएससी, बीसीए जैसे भी एक 3 साल की अवधि का कोर्स है.

फीस: 1,50,000 /- से 6,00,000 /- लाख रूपए.

प्रवेश प्रक्रिया: एंट्रेस एग्जाम या फिर मैरिट के अनुसार.

B.C.A विषय: 

  • Visual Basic
  • System Analysis & Design
  • Organizational Behavior
  • C Programming
  • Computer Fundamentals
  • Computer Laboratory & Practical Work
  • Data Structure
  • Database Management
  • Programming using PHP
  • Java
  • Operating System
  • System Analysis & Design
  • HTML
  • Networking
  • World wide web
  • Advanced c language programming
  • Database management
  • Mathematics
  • Software Engineering
  • Object-Oriented Programming Using C++
  • Oracle
  • Web Scripting
  • Development.

(टिप:- कॉलेज के आधार पर फीस अधिक या कम हो सकती है.)

व्यावहारिक विज्ञान:Applied science

बारवी के बाद छात्र अधिकतर बीटेक में ही प्रवेश करते है और उसके बाद बीएससी की तरफ आते है. याने छात्रों की पहली पसंद बीटेक रहती है. पहली पसंद नहीं मिलने पर करियर कैसा बनेगा इसके लिए थोड़ा चिंतित होते है लेकिन कोइ बात नहीं इस चिंता को छोड़ दीजिए और बीएससी में एडमिशन लीजिए क्यों की, बीएससी एक प्रोपेशनल डिग्री कोर्स है. यह करने पर करियर बनाने के अनगिनत रास्ते हमारे आगे रहते है. वर्तमान समय में बीएससी में व्यावहारिक विज्ञान के विषय का चुनाव करके आप करियर बना सकते है.

व्यावहारिक विज्ञान के निम्नलिखित विषय: 

कम्प्यूटर साइंस (Computer science)

माइक्रोबायॉलजी (Microbiology)

ऐनिमेशन (Animation)

इलेक्ट्रॉनिक्स (Electronics)

न्यूट्रिशन (Nutrition)

बायॉइन्फर्मेटिक्स (Bioinformatics)

बायॉकेमिस्ट्री (Biochemistry)

मल्टीमीडिया (Multimedia)

इन्फर्मेशन टेक्नॉलजी (Information technology)

ऐविएशन (Aviation)

अग्रीकल्चर (Agriculture)

साइकॉलजी (Psychology)

जेनेटिक्स (Genetics),

फरेन्सिक साइंस (Forensic science),

फैशन टेक्नॉलजी (Fashion technology)

नर्सिंग (Nursing)

फूड टेक्नॉलजी (Food technology)

फॉरेस्ट्री (Forestry)

एक्वाकल्चर (Aquaculture)

फिजियोथेरपी (Physiotherapy)

विज्ञान के छात्रों के लिए इंजीनियरिंग एवं मेडिकल के अतिरिक्त निम्न लिखित विषयों में प्रवेश लेकर के अपना भविष्य बना सकते है.

  • नैनो टेक्नोलॉजी
  • स्पेस साइंस
  • रोबोटिक साइंस
  • डेयरी साइंस
  • एनवायर्नमेंटल साइंस
  • माइक्रो-बायोलॉजी
  • वॉटर साइंस

यह भी पढ़े:

Postscript: 

Post Name: बीएससी में भविष्य बनाएं (Create a future in BSc)

Description: बीएससी एक प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है जिसका पूरा नाम है यानी बैचलर ऑफ साइंस (बैचलर ऑफ साइंस), जो कि 3 साल का ग्रेजुएशन कोर्स है, इसमें 6 सेमेस्टर हैं, अगर आप यह कोर्स करना चाहते हैं तो साइंस फैकल्टी से 12 वीं पास और 50% अंक चाहिए.

Author: शीतल

Leave a Reply

error: Content is protected !!