Make future in BOT after 12th | 12 वीं के बाद बीओटी में भविष्य बनाएं

Make future / career in BOT after 12th: 12 वीं के बाद बीओटी में भविष्य बनाएं, व्यावसायिक चिकित्सा स्नातक क्या है?:Bachelor of Occupational Therapy kya hai ?, full form of BOT ?

दोस्तों नमस्ते, पारामेडिकल (Paramedical) कोर्स में आपको 12 वी सायंस के बाद क्या करना चाहिए, किस फिल्ड का चुनाव करना चाहिए, कौन से फिल्ड में हमारा करियर बन सकता है, किस फिल्ड में महारथ हासिल कर सकते है इसके लिए निम्नलिखित पोस्ट जरूर पढ़े … after 12th Make future / career

Make future / career in BOT after 12th | 12 वीं के बाद बीओटी में भविष्य बनाएं Occupational,,c

BOT का फुल फॉर्म | full form of BOT

  • BOT – Bachelor of Occupational Therapy
  • बीओटी – व्यावसायिक चिकित्सा स्नातक

BOT की परिभाषा | Definition of BOT

डॉक्टर, नर्स और फिजियोथेरेपिस्ट के अलावा, स्वास्थ्य पेशेवरों की एक और श्रेणी है जो रोगियों को उनके जीवन का आनंद लेने में मदद करती है. यह श्रेणी व्यावसायिक चिकित्सकों की है. व्यावसायिक चिकित्सक मानसिक या शारीरिक बीमारी या विकलांगता वाले लोगों को सामान्य जीवन जीने और यथासंभव सक्रिय रहने में मदद करने की कोशिश करते हैं. after 12th Make future / career

ये रोगियों को सेंसरी, मोटर, परसेप्चुअल और कॉग्नेटिव एक्टिविटीज के जरिए रोजमर्रा की जिंदगी के सामान्य कार्य करने और काम पर लौटने में सक्षम बनाते हैं. after 12th Make future / career

फिजियोथेरेपिस्ट निम्नलिखित रोगों को ठीक करते है ….. 

  • सीखने में दोष की बीमारी (लर्निंग डिसऑर्डर-Learning disorder)
  • आत्मकेंद्रित (ऑटिज्म -Autism)
  • पक्षाघात (लकवा -Paralysis)
  • मेरुदण्ड रीढ़ की हड्‌डी (spinal cord )
  • मस्तिष्क की चोट (traumatic brain injury)
  • गठिया (आर्थराइटिस -arthritis)
  • उदासी (डिप्रेशन-depression)
  • एक प्रकार का पागलपन (शिजोफ्रेनिया- Schizophrenia)
  • पागलपन (डिमेंशिया- Dementia)
  • पार्किंसन्स (Parkinson)

व्यावसायिक चिकित्सा के साथ कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है. आज भारत ही नहीं, दुनिया भर में व्यावसायिक चिकित्सा विशेषज्ञों की आवश्यकता है. इस क्षेत्र में रोजगार के विकल्प मौजूद है. चलिए जानते है, 12 वीं के बाद BOT (Bachelor of Occupational Therapy) कोर्स करने के लिए क्या योग्यता है. Make future / career

यह भी पढ़े:

  • फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी ग्रुप के साथ बारहवीं की परीक्षा उत्तीर्ण होना  जरूरी है.
  • उम्र 17 साल
  • कई संस्थान यहां प्रवेश पाने के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं, कई संस्थान मेरिट के आधार पर प्रवेश देते हैं. पास  होने के बाद उन्हें विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश मिलता है. जैसे की ……
  • व्यावसायिक चिकित्सा में बीएससी (ऑनर्स) (B Sc in Occupational Therapy (Hons))
  • B Sc in occupational therapy
  • व्यावसायिक चिकित्सा के स्नातक (Bachelor of Occupational Therapy)
  • व्यावसायिक चिकित्सा में डिप्लोमा (Diploma in occupational therapy)
  • भौतिक और व्यावसायिक चिकित्सा में एमएससी (M Sc in Physical and Occupational Therapy)
  • व्यावसायिक चिकित्सा के मास्टर (Master of Occupational Therapy)
बीओटी के लिए शुल्क | Fees for BOT
  • 70, 000/- से 1 लाख रु.

यह भी पढ़े:

बीओटी पाठ्यक्रम की जानकारी | Bot Course Information

यह ग्रेजुएशन लेवल का 4 साल कोर्स  है और 6 महीने की इंटर्नशिप रहती है इसमें निम्नलिखित विषय है……

पहला  वर्ष – First Year 

  • एनाटॉमी (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Anatomy (Theory / Practical)
  • फिजियोलॉजी (Physiology)
  • जीव रसायन (Biochemistry)
  • मनोविज्ञान -1 (Psychology-1)
  • व्यावसायिक थेरेपी -1 (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy-1 (Theory / Practical))

दूसरा वर्ष – Second Year 

  • औषध (Drugs)
  • माइक्रोबॉयालॉजी और पैथोलॉजी (Microbiology and Pathology)
  • बायोस्टैस्टिक और अनुसंधान पद्धति  (Biostatistics and Research Methodology)
  • मनोविज्ञान -2 (विकास और संघठनात्मक मनोविज्ञान) (Psychology-2 (developmental and organizational psychology))
  • व्यावसायिक थेरेपी -2 (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy-2 (Theory / Practical))

तीसरा वर्ष -Third year 

  • नैदानिक आर्थोपेडिक और संधिविज्ञान (Clinical Orthopedic and Rheumatology)
  • नैदानिक तंत्रिका विज्ञान (Clinical neuroscience)
  • जैव अभियांत्रिकी (Bio engineering)
  • ऑर्थोपेडिक्स में व्यावसायिक थेरेपी (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy in Orthopedics (Theory / Practical))
  • न्यूरोलॉजी में व्यावसायिक थेरेपी (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy in Neurology (Theory / Practical))
  • पुनर्वास में व्यावसायिक थेरेपी (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy in Rehabilitation (Theory / Practical))

चौथे वर्ष -Fourth year

  • नैदानिक मनोविज्ञान और मनोचिकित्सा (Clinical Psychology and Psychiatry)
  • सामुदायिक चिकित्सा और समाजशास्त्र (Community Medicine and Sociology)
  • आम दवाई (Common medicine)
  • जनरल सर्जरी (general Surgery)
  • मानसिक स्वास्थ्य में व्यावसायिक थेरेपी (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy in Mental Health (Theory / Practical))
  • बाल चिकित्सा और विकास विकलांगों में व्यावसायिक थेरेपी (सिद्धांत / प्रैक्टिकल) (Occupational Therapy in Pediatric and Developmental Disabilities (Theory / Practical))
BOT के बाद | After BOT 
  • एक चिकित्सक या सलाहकार के रूप में, आप चाहें तो अपना क्लिनिक भी खोल सकते हैं.
  • ऑक्यूपेशनल थैरेपिस्ट को सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों, मेंटल हेल्थ केयर सेंटर, रिहेबिलेशन सेंटर, एडल्ट डे केयर में नौकरी मिल सकती है.
  • चिकित्सक
  • स्वास्थ्य सलाहकार
  • व्यावसायिक चिकित्सा विशेषज्ञ
  • ओटी नर्स
  • भाषण और भाषा चिकित्सक
तनख्वाह | Salary
  • ऑक्यूपेशनल थैरेपी में ग्रेजुएट को मिलने वाला वेतन 8,000 से 25,000 प्रतिमाह हो सकता है.
  • निजी प्रैक्टिस करके 30,000 से 50,000 रुपए प्रति माह तक कमाए जा सकते हैं.
  • सरकारी नौकरी में लाखों के ऊपर वेतन रहता है.
संस्थान – यूनिवर्सिटी / Institute – University
  • National Rehabilitation Training and Research Institute, Cuttack
  • Indian Institute of Health and Education Research, Patna
  • Indraprastha University, Delhi
  • Christian Medical College, Vellore
  • Delhi Institute of Rural Development, Delhi
  • एसआरएम यूनिवर्सिटी, चेन्नई www.srmuniv.ac.in
  • केएमसीएच कॉलेज ऑफ ऑक्यूपेशनल थैरेपी, तमिलनाडूwww.kmchcot.ac.in
  • मनिपाल कॉलेज ऑफ एलाइड हेल्थ साइंसेज www.manipal.edu
  • गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी www.ggsipu.nic.in
  • पंडित दीनदयाल उपाध्याय इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकली हैंडिकैप्ड, दिल्ली www.iphnewdelhi.in
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, साउथ कैंपस www.du.ac.in
यह भी पढ़े :

Postscript: अनुलेख

Post Name: 12 वीं के बाद बीओटी में भविष्य बनाएं(Make future in BOT after 12th)

Description: भारत में व्यावसायिक चिकित्सकों की मांग तेजी से बढ़ रही है, लेकिन पेशेवरों की कमी है. यही कारण है कि इस पेशे में रोजगार की बहुत संभावनाएं हैं.

Author: अमित

Tags : 12 वीं के बाद बीओटी में भविष्य बनाएंBOT में रोजगार के अवसर, BOT के लिए शैक्षणिक योग्यता.

इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

Leave a Reply

error: Content is protected !!