BAMS में भविष्य | How to make future after 12th Science in BAMS?

How to make future after 12th Science in BAMS?: बीएएमएस में 12 वीं विज्ञान के बाद भविष्य कैसे बनाएं?, Ayurvedic medical Doctor me future / career kaise banaye?:आयुर्वेदिक मेडिकल डॉक्टर में भविष्य / करियर कैसे बनाए?.

आयुर्वेद उपचार की पांच  हजार साल पुरानी पद्धति है, जिसे सभी आधुनिक उपचारों का रामबाण उपाय  माना जाता है. बीमारी की रोकथाम और एंटी एजिंग में आयुर्वेद का कोई तोड़ नहीं है. पिछले कई वर्षो से इस क्षेत्र में करियर बनाने की काफी संभावनाएं बढ़ी है.

आप BAMS कोर्स के जरिए अपना करियर शुरू कर सकते हैं. देश में चिकित्सा क्षेत्र बहुत उच्च और सहायक माना जाता है. दुनिया में भगवान के बाद, डॉक्टर को भगवान  का दूसरा अवतार माना जाता है. आज के समय में, यह क्षेत्र बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है और करियर के नए विकल्प शुरू हो रहे हैं. How to make future after 12th Science in BAMS Ayurvedic medical Doctor

BAMS में भविष्य | How to make future after 12th Science in BAMS? Ayurvedic medical Doctor kaise banaye

12 वीं के बाद, हर छात्र के दिमाग में यह बात क्लिक करती है कि उन्हें अपने भविष्य के लिए कौन सा कोर्स करना चाहिए, जिसकी मदद से वे अपना एक सफल भविष्य बना सकते हैं. आज हम आपको BAMS (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery) कोर्स के बारे में बताने जा रहे हैं। आज भारत के कई युवा छात्र BAMS में अपना भविष्य बना रहे हैं। आइए जानते हैं कि BAMS में 12 वीं विज्ञान के बाद भविष्य कैसे बनाएं? (How to make future after 12th Science in BAMS?) Ayurvedic medical Doctor

यह भी पढ़े : kaise banaye

यह कहा जाता है कि आयुर्वेद मनुष्यों में सभी प्रकार के रोगों के लिए उपचार प्रदान करता है. भारत में आयुर्वेद के क्षेत्र में कई कैरियर विकल्प हैं, लेकिन आप इस क्षेत्र में अपना वांछित कैरियर चुन सकते हैं. आयुर्वेद में विभिन्न जड़ी-बूटियों से दवा तैयार की जाती है.‘आयुर्वेद’ संस्कृत भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है – ‘आयुर’ अर्थात ‘जीवन’ और ‘वेद’ अर्थात ‘ज्ञान’ विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी सभी प्रकार की मानसिक और शारीरिक बीमारियों के सफल उपचार के लिए आयुर्वेद के महत्व को स्वीकार किया है. आयुर्वेद में विभिन्न जड़ी-बूटियों से दवा तैयार की जाती है. How to make future after 12th Science in BAMS Ayurvedic medical Doctor

आयुर्वेद कोर्स की जानकारी | Ayurveda Course Information

आप आयुर्वेद के फिल्ड में कोर्स करके अपना भविष्य बना सकते हो आज मैं आपको ग्रेजुएशन लेवल के  BAMS बैचलर ऑफ़ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery) कोर्स के बारे में बताने जा रहा हूँ. आपके जानकारी के लिए आय्रुर्वेद कोर्स निम्न्लिलिखत है…How to make future after 12th Science in BAMS

  • BSMS  – Bachelor of Siddha Medicine and Surgery
  • MBA – Master of Business Administration in Ayurveda Pharmacy
  • MD – Doctor of Medicine in Ayurveda kaise banaye
  • MS – Master of Surgery in Ayurveda
  • MPhil – Master of Philosophy in Ayurveda Theory
  • Ph.D. – Doctor of Philosophy in Ayurveda kaise banaye

यह भी पढ़े: How to make future after 12th Science in BAMS

Full form of BAMS |  BAMS का फुल फॉर्म

BAMS बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery)

BAMS आयुर्वेद फिल्ड का ग्रेजुएशन लेवल का कोर्स है. आपने यह कोर्स करने के बाद आप पोस्टग्रेजुएशन और डॉक्टर डिग्री कोर्स कर सकते है. Ayurvedic medical Doctor kaise banaye

आयुर्वेद के अनुसार, मानव शरीर में 3 मुख्य तत्व हैं, वात, पित्त और कफ और इन 3 तत्वों का प्राकृतिक संतुलन हमारे शरीर में रहना चाहिए। हमारे शरीर में इन तीनों तत्वों का संतुलन बना रहने से हम स्वस्थ रहते हैं और अगर इनमें से कोई भी तत्व, वात, पित्त और कफ हमारे शरीर में कम या ज्यादा हो जाता है, तो हम बीमार पड़ जाते हैं.  चिकित्सा क्षेत्रों में शिक्षा और अनुसंधान गतिविधियों का अभ्यास करने के लिए, वर्ष 1969 में भारत सरकार ने CCRIMH और वर्ष 2003 में AYUSH की स्थापना की. kaise banaye

बीएएमएस के लिए शैक्षणिक योग्यता | Educational Qualification for BAMS

BAMS में एडमिशन के लिए निम्नलिखित शैक्षणिक योग्यता होनी चाहिए.

  • 12 वी में ( Physics, Chemistry, and Biology ) minimum 50% marks.
  • The minimum age limit of the student should be 17 years.

यह भी पढ़े:

प्रवेश परीक्षा | Entrance examinations

BAMS में एडमिशन लेने के लिए कुछ परीक्षाओं को फेस करना पड़ता है जैस से की, ऑल इंडिया और राज्य स्तर पर आधारित एंट्रेंस एग्जाम लिए जाते है, जिनका अभ्यासक्रम 12 वी ही आधारित रहता है. एंट्रेंस एग्जाम के निम्नलिखित नाम …………

  • National Institute of Ayurveda Entrance Exam
  • Uttarakhand PG Medical Entrance Exam
  • Kerala State Entrance Exam
  • Common Entrance Test, Karnataka
  • Ayush entrance exam
BAMS Course Information | बीएएमएस कोर्स की जानकारी

BAMS 5 साल का कोर्स है. 4 साल शैक्षणिक सत्र है और 1 साल इंटर्नशिप रहती है. पाठ्यक्रम की जानकारी निम्नलिखित है ……….

पहला साल- First Year

  • पदार्थ विज्ञानं और आयुर्वेद का इतिहास (History of Materials Science and Ayurveda)
  • क्रिया शरीर (Action body)
  • रचना शरीर (Composition body)
  • संस्कृत (Sanskrit)
  • मौलिक सिद्धांत और अष्टांग हृदय (Fundamental Principles and Ashtanga Hearts)

दूसरा वर्ष – Second year

  • द्रव्यगुण विजनन (Material deformation)
  • रसशास्त्र और भैषज्य कल्पना (Rasastra and nepotism)
  • चरक सहिंता ( पूर्वार्ध खंड 1) (Charak Sahinta (first half section 1))
  • अगद तंत्र, व्यवहार आयुर्वेद और विधि वैद्यक (Agad Tantra, Behavior Ayurveda and Vidhi Vaidyak)

तीसरा वर्ष – Third year

  • रोग निदान और विकृति विज्ञान (Prognosis and pathology)
  • चरक सहिंता (पूर्वार्ध खंड 2)  (Charak Sahinta [Prior Volume 2])
  • स्वस्थ वृत एंव योग  (Healthy circle and yoga)
  • बल रोग प्रसूति तंत्र और स्त्री रोग  (Force disease obstetric system and gynecology)

चौथा वर्ष – Fourth year

  • शल्य तंत्र (Surgical system)
  • शालाक्य तंत्र (School system)
  • पंचकर्म (Panchakarma)
  • कायाचिकित्सा ( मानस रोग, रसायन और वाजीकरण सहिंत) (Physiotherapy (Including Mood Disease, Chemistry and Logistics))
  • रिसर्च मेथोडॉलोजी और मेडिकल स्टेटिस्टिक्स (Research Methodology and Medical Statistics)

पाँचवाँ साल-fifth year 

1 वर्ष की इंटर्नशिप निम्नलिखित विषयों में होती है…

  • काया-चिकित्सा (Physiotherapy)
  • शल्य तंत्र (Surgical system)
  • शालाक्य तंत्र (School system)
  • बल चिकित्सा प्रसूति तंत्र (Force medical obstetric system)
  • पंचकर्म (Panchakarma)
BAMS के लिए शुल्क | Fees for BAMS
  • निजी कॉलेज से सरकारी कॉलेज शुल्क कम रहता है.
बीएएमएस के बाद अवसर | Opportunities after BAMS 
  • BAMS कोर्स पूरा करने के बाद निम्नलिखित जगह पर जॉब कर सकते है.
  • BAMS कोर्स पूरा होने के बाद आयुर्वेद डॉक्टर बनने के लिए सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडिया मेडिसिन के साथ पंजीकरण करना होता है.
  • निजी दवाखाना
  • सामान्य आयुर्वेदिक अभ्यास
  • विशेष क्लिनिक
  • विशेष अभ्यास
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी
  • शोध कार्यकर्त्ता
  • स्वास्थ्य देखभाल प्रशासन
  • स्वास्थ्य पर्यवेक्षक
  • आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट प्रबंधक
बीएएमएस करने के बाद वेतन | Salary after doing BAMS 
  • गैर सरकारी सस्थानो में शुरूआती सैलरी 18,000/-  से 40,000/- रूपए प्रति माह.
  • सरकारी विभाग में 3 से 5 लाख रू प्रति माह.
BAMS कॉलेज | BAMS College
  • institute of Medical Sciences, BHU, Varanasi
  • Himalayan Ayurvedic Medical College and Hospital, Rishikesh
  • DAV Ayurvedic College, Jalandhar
  • National Institute of Ayurveda, Jaipur,
  • Gujarat Ayurved University, Jamnagar

BAMS में 12 वीं विज्ञान के बाद भविष्य कैसे बनाएं? यह लेख पढ़ने के लिए धन्यवाद !

यह भी पढ़े :

Postscript: अनुलेख

Post Name: BAMS में 12 वीं विज्ञान के बाद भविष्य कैसे बनाएं? (How to make future after 12th Science in BAMS?)

Description: आयुर्वेद डॉक्टर बनने के लिए (BAMS) बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी की पढ़ाई करनी होती है. इसकी जानकारी लेख में दी गई है.

Author: अमित

Tags: BAMS में 12 वीं विज्ञान के बाद भविष्य कैसे बनाएं?, आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने?,BAMS कैसे करे? 

इंग्लिश में पढ़ने के लिएयहाँ क्लिक करें 

Leave a Reply

error: Content is protected !!