“Bharat Ratna” India’s highest honor : “भारत रत्न” भारत का सर्वोच्च सम्मान

“Bharat Ratna” India’s highest honor : “भारत रत्न” भारत का सर्वोच्च सम्मान, Why Bharat Ratna is given?:भारत रत्न क्यों दिया जाता है? 

Bharat Ratna भारत का सर्वोच्च नागरी सम्मान है। इस सम्मान की नीव 2 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति मा.राजेंद्र प्रसाद द्वारा रखी गई थी। भारत में, बहादुरी की कहानियों ने अनंत काल को जन्म दिया। अपने क्षेत्रों में उत्कृष्ठ काम करके देश का गौरव बढ़ाया है और आंतरराष्ट्रीय मान्यता हासिल की है। भारत विश्व की सबसे पुराणी सभ्यताओं को बरकरार रखनेवाला एशिया महाद्वीप का एक अलग ही पहचान बनानेवाला देश है। कला, साहित्य, विज्ञान और खेल के क्षेत्र में असाधारण राष्ट्रिय सेवा के लिए प्रदान किया जाता है।

"Bharat Ratna" India's highest honor : "भारत रत्न" भारत का सर्वोच्च सम्मान

जिस व्यक्ति ने अपने क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया हो, अपने कार्यों से देश का गौरव और आंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त करके दी है ऎसे व्यक्तियों को ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया जाता है। “Bharat Ratna” India’s highest honor

‘भारत रत्न’ उच्चतम नागरिक सम्मान है, यह सम्मान कला, साहित्य, विज्ञान, राजनीती, विचारक, उद्योगपति, लेखक, समाजसेवक और खेल में उत्कृष्ठ कार्य करनेवाले व्यक्तियों को दिया जाता है। “Bharat Ratna” India’s highest honor

यह भी पढ़े:

  • ‘भारत रत्न’ की सुरवात 02 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति मा.राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई है
  • ‘भारत रत्न’ भारत के राष्ट्रपति द्वारा 26 जनवरी को प्रदान किया जाता है। “Bharat Ratna” India’s highest honor
  • “Bharat Ratna” के लिए प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति के तरफ शिफारिश लेकर जाता है। “Bharat Ratna” India’s highest honor
  • ‘भारत रत्न’ मरणोपरांत देनेका प्रावधान नहीं था लेकिन सन 1955 में यह प्रावधान जोड़ा गया।
  • ‘भारत रत्न’ सुभाषचंद्र बोस को मरणोपरांत मिला था लेकिन, ‘भारत रत्न’ को लौटा दिया गया।
  • “Bharat Ratna” एक वर्ष में तिन व्यक्तियों को ही प्रदान किया जाता है। “Bharat Ratna” India’s highest honor
  • ‘भारत रत्न’ को नाम के साथ पदवी के जैसा उच्चारण, इस्तेमाल या जोड़ नहीं सकते।
  • ‘भारत रत्न’ एक पदक है। इसके साथ कोई धनराशि नहीं मिलती। राष्ट्रपतिद्वारा हस्ताक्षर किया गया प्रमाणपत्र मिलता है।
  • “Bharat Ratna” दो विदेशियों को दिया गया है, जैसे की, 1) अब्दुल गफ्फार खान और 2) नेल्सन मंडेला
  • ‘भारत रत्न’ 2019 तक 48 व्यक्तियों को मिला है। “Bharat Ratna” India’s highest honor
  • “Bharat Ratna”1977 में जनता पार्टी द्वारा बंद किया गया था लेकिन दोबारा 1980 में कॉंग्रेस पार्टी ने चालू किया।
  • ‘भारत रत्न’ से सम्मानित सर्वप्रथम किसे किया गया था – डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन (1954)
  • “Bharat Ratna” प्राप्त करनेवाली प्रथम भारतीय महिला का नाम- मा.इंदिरा गाँधी (1971)
  • ‘भारत रत्न’ मरणोपरांत प्राप्त करनेवाले प्रथम भारतीय पुरष का नाम – लाल बहादुर शास्त्री (1966)
  • ‘भारत रत्न’ मरणोरांत प्राप्त करनेवाले व्यक्तियों की संख्या – 14 “Bharat Ratna” India’s highest honor

“Bharat Ratna” पदक के बारें में जानकारी | Information about’ Bharat Ratna’ medal

  • ‘भारत रत्न’ पीतल का बनाया गया पदक है। यह पदक पिपल के पत्ते जैसा बनाया जाता है। यह पदक 5. 8 mm लंबा, 4.7 mm चौड़ा, और 3.1 mm मोटा रहता है। इस पदक पर प्लैटिनम का सूर्य बना रहता है, उसके निचे चाँदी के अक्षरों में ‘भारत रत्न’ लिखा रहता है। पदक के पीछे में राष्ट्रिय चिन्ह रहता है और उसके निचे में ‘सत्य मेव जयते’ लिखा रहता है। यह पदक सफेद फीते के साथ गले में पहनाया जाता है।

यह भी पढ़े:

Facilities available to the recipients of Bharat Ratna:भारत रत्न प्राप्तकर्ताओं को उपलब्ध सुविधाएं 

  • ‘भारत रत्न’ प्राप्त व्यक्ति को Income Tex नहीं देना पड़ता।
  • ‘भारत रत्न’ प्राप्त व्यक्ति को एयर इंडिया की प्रथम श्रेणी में हवाई यात्रा मुक्त और रेलवे में प्रथम श्रेणी में मुक्त यात्रा।
  • सरकारी कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण पत्र मिलता है।
  • विदेश यात्रा के लिए भारतीय दूतावास द्वारा सुविधा उपलब्ध की जाती है।
भारत रत्न प्राप्तकर्ताओं की सूची | List of Bharat Ratna recipients

‘भारत रत्न’ भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। इस सम्मान की सुरवात 02 जनवरी 1954 में  हुई है और वर्ष 2019 तक कुल 48 व्यक्तियों को ‘भारत रत्न’ प्राप्त हुआ है। ‘भारत रत्न’ प्राप्तकर्ताओं की सूची निचे दी है……

1. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (05 सितंबर 1888 / 17 अप्रैल 1975) – डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को सन 1954 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। वर्ष 1952 से 1962 तक भारत के उपराष्ट्रपति के पद पर विराजमान थे। वर्ष 1962 में उन्हें भारत के राष्ट्रपति पद पर नियुक्त किया गया। भारत में 5 सितंबर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन शिक्षक दिन के रूप में मनाया जाता है।

2.चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (10 दिसंबर 1878 / 25 दिसंबर 1972) – चक्रवर्ती राजगोपालचारि को वर्ष 1954 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। वे ‘राजाजी’ के नाम से भी जाने जाते थे। उनका जन्म दक्षिण भारत के सलेम जिले के थोरापल्ली गांव में हुआ। सन 1937 से 1939 तक वे मद्रास प्रान्त के मुख्यमंत्री थे। सन 1948 से 1950 तक भारत के गवर्नर जनरल रहे। सन 1952 से 1954 तक मद्रास राज्य के मुख्यमंत्री पद पर नियुक्त थे। दक्षिण भारत में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए कार्य किये।

3. डॉ.चंद्रशेखर व्यंकट रमन (सी.व्ही.रमन 07 नवंबर 1888 / 21 नवंबर 1970) – डॉ.चंद्रशेखर व्यंकट रमन को सन 1954 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। डॉ.चंद्रशेखर व्यंकट रमन को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था पढ़ने के यहाँ क्लिक कीजिए।

4. डॉ. भगवान दास (12 जनवरी 1869 / 18 सितंबर 1958) – डॉ.भगवान दास को वर्ष 1955 को ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। उनका जन्म 12 जनवरी 1869 में वाराणसी, उत्तर प्रदेश में हुआ था। वर्ष 1887 में उम्र के 18 वे साल में एम.ए की पाश्चात्य दर्शन उपाधि प्राप्त की। वर्ष 1890 से 1898 तक उत्तर प्रदेश में विभिन्न जिलों में मजिस्ट्रेट की सरकारी नौकरी की। वर्ष 1899 से 1914 तक सेंट्रल हिन्दू कॉलेज के संस्थापक, सदस्य और अवैतनिक मंत्री रहे। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

5.डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (15 सितंबर 1862 / 12 अप्रैल 1962) –  डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या को वर्ष  1955 में  ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया। 15 सितंबर उनका जन्म दिन है यह दिन भारतवर्ष में ‘अभियंता दिवस’ के रूप में मनया जाता है।

6. पंडित जवाहरलाल नेहरू (14 नवंबर 1889 / 27 मई 1964) –  पंडित जवाहरलाल नेहरू को सन 1955 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पद संभाला है। उन्हें बच्चे चाचा नेहरू कहते है। चाचा नेहरू के नाम से भी उन्हें पहचाना जाता है।

7.पंडित गोविन्द बल्लभ पंत (10 सितंबर 1887 / 7 मार्च 1961) – पंडित गोविन्द बल्लभ पंत को सन 1957 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। इन का जन्म 10 सितंबर 1887 में अल्मोड़ा जिले के खूंट गांव में हुआ था।

8. डॉ.धोंडे केशव कर्वे (18 अप्रैल 1858 / 9 नवंबर 1962) – डॉ.धोंडे केशव कर्वे को वर्ष 1958 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

9. डॉ.बिधन चंद्र रॉय (1 जुलाई 1882 / 1 जुलाई 1962) –  डॉ.बिधन चंद्र रॉय को वर्ष 1961 में  ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। वे पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री थे। उनका जन्म दिन 1 जुलाई भारत में ‘चिकित्सक दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

10. पुरुषोत्तम दास टंडन (1 अगस्त 1882 / 1 जुलाई 1962) –  पुरुषोत्तम दास टंडन को वर्ष 1961 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

11. डॉ.राजेंद्र प्रसाद (3 दिसंबर 1834 / 28 फरवरी 1963) –  डॉ.राजेंद्र प्रसाद को वर्ष 1962 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। डॉ. राजेंद्र प्रसाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

12. डॉ. झाकिर हुसैन (8 फरवरी 1897 / 3 मई 1969) – डॉ. झाकिर हुसैन को वर्ष 1963 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। वे भारत के तिसरे नंबर के राष्ट्रपति थे।

13.डॉ.पांडुरंग वामन काने (7 मई 1880 / 18 अप्रैल 1982) – डॉ.पांडुरंग वामन काने को वर्ष 1963 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। उन्हें 7 स्वर्णपदक हासिल हुए है।

14.लालबहादुर शास्त्री (2 अक्टूबर 1904 / 11 जनवरी 1966) – लाल बहादुर शास्त्री को वर्ष 1966 में ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया। वे भारत के दूसरे प्रधानमंत्री थे।

15. इंदिरा गाँधी (19 नवंबर 1917 / 31 अक्टूबर 1984 ) – इंदिरा गाँधी को वर्ष 1971 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। वे भारत देश के प्रथम महिला प्रधानमंत्री थे।

16. वराहगिरी व्यंकट गिरी (वी.वी.गिरी 10 अगस्त 1894 / 23 जून 1980) – वराहगिरी व्यंकट गिरी को वर्ष 1975 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। वे भारत के चौथे राष्ट्रपति थे।

17. के.कामराज (15 जुलाई 1903 / 2 अक्टूबर 1975 ) – के.कामराज जी का पूरा नाम कामाक्षी कुमारस्वामी नादेर है। वे कुमारस्वामी कामराज या के.कामराज के नाम से लोग उन्हें जानने लगे और वर्ष 1976 को ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया।

18. मदर तेरेसा (26 अगस्त 1910 / 5 सितंबर 1997) – मदर तेरेसा जी का पूरा नाम ‘अग्नेस गोंझा बोयाजीजु’ है। उन्हें वर्ष 1980 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

19. विनोबा भावे (11 सितंबर 1895 / 15 नवंबर 1982) – विनोबा भावे जी का पूरा नाम विनोबा नरहरी भावे है। उन्हें वर्ष 1983 को  ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था।

20. खान अब्दुल गफ्फार खान (1819 / 20 जनवरी 1988) – खान अब्दुल गफ्फार खान को लोग ‘सीमांत गाँधी’ के नाम से जानते है। उन्हें वर्ष 1987 में ‘भारत रत्न’ से (पहले विदेशी) सम्मानित किया गया था।

21.एम.जी.आर (17 जनवरी 1917 / 24 दिसंबर 1987) – एम.जी.आर का पूरा नाम मारुदुर गोपालन रामचंद्रन है। वे अभिनेता और राजनीतिज्ञं थे। उन्हें एम.जी.आर के नाम से लोग जानने थे और वर्ष 1988 में ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था।

22. डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (14 अप्रैल 1891 / 6 दिसंबर 1956) – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर जी का नाम डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर है। उन्हें वर्ष 1990 में ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

23.नेल्सन मंडेला (18 जुलाई 1918 / 5 सितंबर 2013) – नेल्सन मंडेला का पूरा नाम ‘नेल्सन रोलीहलला मंडेला है। दक्षिण अफ्रिका के पहले श्वेत भूतपूर्व राष्ट्रपति थे। उनका जन्म दिन 18 जुलाई ‘आंतरराष्ट्रीय दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। उन्हें वर्ष 1990 में ‘भारत रत्न’ से (दूसरे विदेशी) सम्मानित किया गया था।

24. राजीव गाँधी (20 अगस्त 1944 / 21 मई 1991) – राजीव गाँधी भारत के छटवे नंबर के प्रधानमंत्री थे। उन्हें वर्ष 1991 में ‘भारतरत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था।

25. सरदार वल्लभ भाई पटेल (31 अक्टूबर 1875 / 15 दिसंबर 1950) – सरदार वल्लभ भाई पटेल आजादी के बाद भारत के प्रथम गृहमंत्री और उप-प्रधानमंत्री बने। बोर्डोली सत्याग्रह के दौरान वहा की महिलाओं ने ‘ सरदार’ उपाधि से सम्मान किया। उन्हें भारत का बिस्मार्क और लौह पुरुष कहा जाता है। वर्ष 1991 में ‘भारतरत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

26. मोरारजी देसाई (29 फरवरी 1896 / 10 अप्रैल 1995) – मोरारजी रणछोड़जी देसाई भारत के चौथे प्रधानमंत्री थे। उन्हें वर्ष 1991 में ‘भारतरत्न’ से सम्मानित किया गया था।

27. मौलाना अबुल कलाम आजाद (18 नवंबर 1888 / 22 फरवरी 1958) – मौलाना अबुल कलाम आज़ाद या अबुल कलाम गुलाम मुहियुद्दीन के नाम से जाने जाते थे। वे भारत के पहले शिक्षा मंत्री बने और वर्ष 1992 में ‘भारतरत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया।

28. जे.आर.डी.टाटा (29 जुलाई 1904 / 29 नवंबर 1993) – जे.आर.डी.टाटा का पूरा नाम ‘जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा’ था। वे उद्योगपति थे उन्हें वर्ष 1992 में ‘भारतरत्न’ से सम्मानित किया गया था।

29. सत्यजित रे (2 मई 1921 / 23 अप्रैल 1992) – सत्यजीत रे फिल्म निर्देशक, लेखक थे। उन्हें वर्ष 1992 में ‘भारतरत्न’ से सम्मानित किया गया था।

30. डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम (15 अक्टूबर 1931 / 27 जुलाई 2015 ) – डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम भारत के 11 वे राष्ट्रपति थे। उन्हें वर्ष 1997 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

31. गुलजारीलाल नंदा (4 जुलाई 1898 / 15 जनवरी 1998) – भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवारलाल नेहरू के मृत्यु के बाद कार्यवाहक प्रधानमंत्री (वर्ष 1964) बने थे। वर्ष 1997 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

32. अरुणा आसफ़ अली (16 जुलाई 1909 / 29 जुलाई 1996 ) – अरुणा का नाम ‘अरुणा गांगुली’ था। शादी के बाद उनका सरनेम ‘अली’ हुआ। वे अरुणा आसफ़ अली के नाम से जाने जाते है उन्हें वर्ष 1997 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

33.  मदुरै षण्मुखवडिवु सुब्बुलक्ष्मी (16 सितंबर 1816 / 11 दिसंबर 2004) – कर्नाटक संगीत की मशहूर अदाकारा सुब्बुलक्ष्मी, एम.एस. सुब्बुलक्ष्मी के नाम से जाने जाते है। उन्हें वर्ष 1998 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

34.सी सुब्रह्मण्यम् (30 जनवरी 1910 / 7 नवंबर 2000 ) – सी सुब्रह्मण्यम् का नाम ‘चिदम्बरम् सुब्रह्मण्यम्’ है। वे  भारत प्रान्त के केंद्रीय स्तर के मंत्री और गवर्नर बने थे उन्हें वर्ष 1998 ने ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

35. जयप्रकाश नारायण (11 अक्टूबर 1902 / 8 अक्टूबर 1979) – जयप्रकाश नारायण भारत के समाज सेवक थे। ‘लोकनायक’ के नाम से जाना जाता है तथा वर्ष 1998 में ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था।

36. पं.रवि.शंकर (7 अप्रैल 1920 / 12 दिसंबर 1912) – पंडित रविशंकर सितारवादक और संगीतज्ञं थे। उन्हों ने भारतीय शास्त्रीय संगीत की शिक्षा उस्ताद अल्लाउद्दीन खा से प्राप्त किया था। वर्ष 1999 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

37. डॉ.अमर्त्य सेन (3 नवंबर 1933 ) – उनका पूरा नाम अमर्त्य आशुतोष सेन है। उन्हें वर्ष 1999 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

38. गोपीनाथ बोरदोलोई (1890 / 1950) – गोपीनाथ बुद्धेश्वर बोरदोलोई ने वर्ष 19 सितंबर 1938 से 17 नवंबर 1939 तक बंगाल के मुख्यमंत्री बने रहे। वर्ष 1999 में ‘भारतरत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया था।

39. लता मंगेशकर (28 सितंबर 1929) – लता मंगेशकर का जन्म इंदौर में हुआ है। लता मंगेशकर लोकप्रिय  गायक है। उन्हें वर्ष 2001 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

40. उस्ताद बिस्मिला खा (21 मार्च 19 6 / 21 अगस्त 2006 ) – उस्ताद बिस्मिला खा हिन्दुस्थान के लोकप्रिय सैनाई वादक थे। उन्हें वर्ष 2001 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित होनेवाले तीसरे भारतीय संगीतकार थे।

41. पंडित भीमसेन जोशी (4 फरवरी 1922 / 25 जनवरी 2011) – उनका पूरा नाम भीमसेन गुरुराज जोशी है वे हिंदुस्थानी शास्त्रीय गायक के प्रमुख है। उन्हें वर्ष 2008 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

42. सी.एन.आर.राव (30 जून 1934) – सी.एन.आर.राव का पूरा नाम चिंतामणि नागेश रामचंद्र राव है। वे रसायनज्ञं है वर्तमान में भारत के प्रधानमंत्री वैज्ञानिक सलाहकार परिषद के प्रमुख है। 1500 शोधपत्र और 45 वैज्ञानिक पुस्तके लिखे है। उन्हें वर्ष 2014 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

43. सचिन तेंदुलकर (24 अप्रैल 1973) – सचिन तेंदुलकर का पूरा नाम सचिन रमेश तेंदुलकर है। उन्हें वर्ष 2014 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे।

44. अटल बिहारी वाजपेयी (25 दिसंबर 1924 / 16 अगस्त 2018) – अटल बिहारी वाजपेयी भारत के दसवें नंबर के प्रधानमंत्री थे। उन्हें वर्ष 2015 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

45. मदन मोहन मालवीय (25 दिसंबर 1861 / 25 नवंबर 1946) – मदन मोहन मालवीय को ‘महामना’ की  उपाधि से सम्मानित किया गया था। उन्हें वर्ष 2015 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था।

46. प्रणव मुखर्जी (11 दिसंबर 1935) – प्रणव मुखर्जी भारत के 13 वे राष्ट्रपति थे। उन्हें वर्ष 2019 में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया है।

47. भूपेन हजारिका (8 सितंबर 1926 / 5 नोहंबर 2011) – भूपेन हजारिका एक संगीतकार, गीतकार, गायक, फिल्म निर्माता थे। उन्हें वर्ष 2019 में ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया है।

48. नानाजी देशमुख (11 अक्टूबर 1916 / 27 फ़रवरी 2010) – नानाजी देशमुख का पूरा नाम चंडिकादास अमृतराव देशमुख है। उनके माता पिता बचपन में ही चल बसे। मामा ने उनका लालन-पालन किया। उन्हें पढ़ाई के लिए बुक खरीदने के लिए पैसे नहीं रहते थे इसलिए वे सब्जी बेचकर मंदिरों में रहने लगे और अपनी पढ़ाई पूरी किए। नानाजी का जन्म महाराष्ट्र  के हिंगोली जिले के कड़ोली गांव में हुआ था। उन्हें वर्ष 2019 में ‘भारत रत्न’ से (मरणोपरांत) सम्मानित किया गया है।

यह भी जरूर पढ़े 

 

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!