Papaya ka lassi:पपीता की लस्सी (Papaya Nutrient-volume -100g)

Papaya ka lassi:पपीता की लस्सी,Papaya nutrient information (volume -100g)Papaya lassi making ingredients:पपीता लस्सी बनाने की सामग्री.

पपीता एक सर्व-मौसम फल है, जो स्वाद में उत्कृष्ट होने के साथ-साथ इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों की मात्रा भी है। आमतौर पर ऑफिस गोअर और फल खाने वाले इसे लंच के रूप में खाते हैं। डॉक्टर भी पपीता खाने की सलाह देते हैं क्योंकि यह आपके पेट सहित शरीर के अन्य रोगों को ठीक करने में बहुत फायदेमंद है। आप चाहें तो पपीते को फ्रूट सलाद या पपीते के शेक के रूप में खा सकते हैं।

Papaya ka lassi:पपीता की लस्सी (Papaya Nutrient-volume -100g)

पपीता बहुत ही कम समय में ज्यादा फल देनेवाला पौधा है। यह फल बहुत ही स्वास्थवर्धक है। यह फल कच्चा रहता है, तभी हरे रंग का रहता है। कच्चे फल की सब्जी बनाते है। पके फल बहुत ही मिठे लगते है। Papaya ka lassi

यह भी पढ़े: Papaya ka lassi

Papaya nutrient information (volume -100g):पपीता पौष्टिक तत्व की जानकारी(मात्रा-100 ग्राम)

 पौष्टिक गुण 

मिनरल्स और विटामिन्स  

नमी -90.8%

प्रोटीन – 0. 6 %

वसा – 0.1%

मिनरल्स – 0. 5%

फाइ

कैल्शियम – 17. मि.ग्राम 

आयरन – 1.2. मि. ग्राम 

विटामिन सी – 16

विटामिन बी 

कॉम्प्लेक्स – थोड़ी मात्रा। 

कैलोरी – 48 

पपीता लस्सी बनाने की सामग्री  |  Papaya lassi making ingredients

[6 ग्लास के लिए] 

  • 1 प्लेट में छोटे पपीता के कुचले तुकडे लीजिए।
  • 250 ग्राम दही
  • 1 कप पानी।
  • बड़े चमच निम्बू का रस
  • आधा चमच काली मिर्च (पीसी हुई)
  • पुदीना की पत्तिया
  • 1 छोटा चमच नमक

पपीता लस्सी बनाने का नुस्ख़ा |  Papaya lassi recipe

दही में पानी मिलाकर पपीता के छोटे-छोटे तुकडे और ऊपर दी गयी साम्रग्री मिक्सी में पीस लीजिए। अब पपीता की लस्सी तैयार है। ग्लास में बर्फ के तुकडे डालकर ऊपर से पुदीना की पत्तिया सजाकर दीजिए।

यह भी पढ़े:  Papaya ka lassi

पपीता खाने के फायदे:

रक्तचाप (blood pressure) को संतुलित रखने के लिए आवश्यक विशेष पोषण तत्व को मैग्नीशियम कहा जाता है। यह एक खनिज है जो पपीते में पर्याप्त रूप से मौजूद है। इसलिए, जिन लोगों को उच्च रक्तचाप होता है, वे हर दिन अपने आहार में पपीते का सेवन शामिल कर सकते हैं। इतना ही नहीं, इसमें सुखदायक गुण भी होते हैं जिनका उपयोग रक्तचाप के बढ़ने के बाद शरीर की प्रतिक्रिया को राहत देने के लिए किया जा सकता है।

कैंसर की रोकथाम के लिए पपीता का सेवन बहुत फायदेमंद साबित होगा। वास्तव में, एनसीबीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह भी पुष्टि की गई है कि पपीता में कैंसर विरोधी गतिविधि है। इसलिए, नियमित रूप से पपीते का सेवन करने वाले लोगों के शरीर में कैंसर-विरोधी गतिविधि कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकती है। इसके अलावा यह आपको कैंसर की बीमारी की चपेट से बचाने का भी काम करता है।

यह फल उसी तरह से लाभ पहुंचाता है जैसे कि कीवी फल प्रतिरक्षा को बढ़ाने के लिए। दरअसल, पपीते में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी एक्टिविटी पाई जाती है। यह एक संपत्ति है जो शरीर की प्रतिरक्षा को बढ़ाने के लिए सक्रिय रूप से कार्य करने के लिए प्रतिरक्षा कोशिकाओं को प्रेरित करती है। उनका प्रभाव प्रतिरक्षा कोशिकाओं को मजबूत करके आपकी प्रतिरक्षा को मजबूत करने में मदद करता है।

यह भी पढ़े:

कीवी का उपयोग प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए किया जाता है। वहीं, अगर आप प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए पपीते का इस्तेमाल करते हैं तो यह भी काफी फायदेमंद साबित होगा। पपीते में विभिन्न प्रकार के गुणकारी एसिड होते हैं जो प्लेटलेट्स को बढ़ाने की क्षमता रखते हैं। इसलिए आपके प्लेटलेट्स बढ़ाने में पपीते का सेवन भी फायदेमंद साबित हो सकता है।

यदि आप किसी भी प्रकार के हृदय (heart) रोग से दूर रहना चाहते हैं, तो आप पपीते को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। दरअसल, पपीते में विशेष औषधीय गुण होते हैं जो दिल को विभिन्न बीमारियों से बचाते हैं। इसके अलावा, वे आपके दिल में विषाक्त संचय को भी रोकते हैं। इसलिए, दिल के अच्छे स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए, आपको प्रतिदिन पपीते के दो से तीन टुकड़ों का सेवन करना चाहिए।

यह जरूर पढ़े :

बादाम लस्सी कैसे बनाये ?

 अनानास की लस्सी कैसे बनाये 

मीठी लस्सी कैसे बनाये ?

अंगूर की लस्सी कैसे बनाये ?

 संतरा लस्सी कैसे बनाये ?

 आम की लस्सी कैसे बनाये ?

 सेब की लस्सी कैसे बनाये ?

चीकू की लस्सी कैसे बनाये ?

Leave a Reply

error: Content is protected !!