om Advantage of pronunciation:ओम उच्चारण के लाभ

om Advantage of pronunciation:ओम उच्चारण के लाभ, What is the result of chanting Om Car?, How to control diseases, बीमारियों को कैसे नियंत्रित किया जाए.

om Advantage of pronunciation:ओम उच्चारण के लाभ

ॐ का उच्चारण सिर्फ धार्मिकता के लिए ही नहीं बल्कि स्वस्थ आरोग्य के लिए भी फायदेमंद होता है. प्रतिदिन पाच मिनट ॐ का उच्चारण करने से शाररिक व् मानसिक संतुलन की अनुभूति महसूस होती है।

यह भी पढ़े: om Advantage of pronunciation

om Advantage of pronunciation:ओम उच्चारण के लाभ

ओम के उच्चारण करने के लिए किसी भी स्तिथि मे बैठकर आखें बंद कर शांत रहकर एक लम्बी श्वास लेते हुए ॐ का उच्चारण के साथ धीरे धीरे श्वास को छोड़ते हुए ॐ शब्द की पुनरावर्ती निरंतर करते रहना चाहिए। इस प्रक्रिया को करते हुए पूरा शरीर वाय्ब्रेसन होना चाहिए इस बात का ध्यान रखना चाहिए .

ॐ के उच्चारण करते समय कान बंद हो तो अधिक फायदा होंगा

ॐ कार जप के परिणाम के महत्त्व 

1. मानवीय मन को शुद्ध करना।

2. मानवीय मन के भावनाओं पर नियंत्रण रखना। om Advantage of pronunciation

3. मन की एकाग्रता , स्मरण शक्ति व बुध्दिमता को बढ़ाना , वैसे ही किसी बात को समझना ,व समझने की पात्रता को बढ़ाना।

4. शाररिक दुर्ष्टि , मानसिक रूप से आराम महसूस होना, अपने भावनावों पर नियंत्रण रखना।

5. ॐ के जाप से आजू बाजु के वातावरण मे एक तरंग निर्माण होकर  इस वातावरण मे समाधी लगा पाना आसन होता है. मानवीय मन इस वातावरण मे रम जाता है।

यह भी पढ़े: om Advantage of pronunciation

ॐ का जाप

ओम …………………ओ ……………….म ………………..ओम ……………….

ॐ के उच्चारण से अनेक रोगों पर नियंत्रण

हिन्दू धर्म मे ॐ का महत्वपूर्ण स्थान है।जिव सृष्टि की पहली ध्वनी ॐ को ही माना जाता रहा है।मन्त्र उच्चारणों मे ॐ का उच्चारण न हो तो मन्त्र अधुरा समजा जाता है अपूर्ण महसूस होता है. परन्तु ॐ का धार्मिक महत्व के साथ साथ शारिरिक महत्व भी है जो आज हम आपसे इस संबध मे चर्चा करेंगे।

1 थायराइड –ॐ के उच्चारण करने से गले मे कंपन निर्माण होता है इससे थायराइड ग्रंथि पर सकारात्मक परिणाम पढता है।

2 अस्वस्थता – यदी आपको अस्वस्थ महसूस हो तो ॐ का उच्चारण आखें बंद कर पाच मिनट के लिए लम्बी श्वास लेते हुए कर ले, आराम लगेगा।

3 तनाव – इससे शरीर के विषारी घटक (टाक्सिन) दूर होते है।

4 रक्त प्रवाह – इससे ह्रदय सुदृढ़ रहता है और रक्त प्रवाह संतुलित बहता है।

5 पाचन – ॐ के उच्चारण से पाचन शक्ति बढती है।

6 स्फूर्ति – ओमकार से शरीर मे स्फुर्ति का संचार होता है।

7 थकान – थकान मिटने के लिए इससे बढ़िया उपाय दूसरा नहीं है।

8 नीद – ॐ के नियमित उच्चारण से कुछ ही दिनों मे नीद न आने की समस्या दूर हो जाती है।

9 श्वसनतंत्र – फेफड़े मजबूत बनते है।

10 रीड की हड्डी – ॐ के कम्पन से पीठ के रीड की हड्डिया मजबूत बनती है व उनकी कार्यप्रणाली में सुधार होता है।

यह भी जरूर पढ़े:

Sr.No Health Tips ArticlesS.N  Article Name 
 1  धनिया सेवन करने के लाभ 1 गाजर,पपीता,नींबू अचार कैसे बनाए ? 
 2आँवला के लाभ आवला सरबत कैसे बनाए?
 3मुसंबी खाने के लाभ   3धनिया बीज और जीरा सरबत कैसे बनाए ?
 4अनानास खाने के लाभ 4 इमली का पन्ह कैसे बनाए?
 5सीताफल खाने के लाभ   कबुदर और चिठी की कहानी 
 जामुन खाने के लाभ 6 अपनी जीवन शैली का ख्याल कैसे रखे ?
 7कटहल खाने के लाभ  7 ॐ उच्चारण के लाभ
 8नारियल खाने के लाभ  8    जीवन के 10 महत्वपूर्ण प्रश्न 
 9पपीता खाने के लाभ  9  रसोई टिप्स 
 10 केला खाने के लाभ  10 कुदरत का करिष्मा (साधू की कहानी )
 11अमरुद खाने के लाभ  11 अथलेटिक्स खिलाड़ियों की जानकारी 
 12अनार खाने के लाभ  12 Good dot (मिट )
 13 सेब खाने के लाभ  13 Jiyo  Tea
14अंगूर खाने के लाभ  14 सोनपपड़ी की जानकारी 
 15  संत्री खाने के लाभ 15  न्यूट्रीचार्ज वुमन 
 16  खरबूजा खाने के लाभ  16 न्यूट्रीचार्ज मेन 
 17  तरबूज खाने के लाभ  17 हेल्थ गार्ड ऑइल की जानकारी
 18  निम्बू खाने के लाभ  18 न्यूट्रीचार्ज DHA 
 19 जीरा खाने के लाभ 19 न्यूट्रीचार्ज किड्स
 20 मूली खाने के लाभ 20 न्यूट्रीचार्ज स्ट्रॉबेरी प्रोडॉइट

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!