Thomas Edison researcher:थॉमस एडिसन अनुसंधान कर्ता

Thomas Edison researcher:थॉमस एडिसन अनुसंधान कर्ता, thomas edison industrial research laboratory,light bulb,facts for kids,elementary school.

मायकेल फरेड ने बिजली के शास्त्र की नींव बनाई। इस नीव पर थॉमस एडिसन ने बिजली के उपकरणों की खोज कि है। यांत्रिक युग में थॉमस एडिसन ने 1400 /- से ज्यादा शोध लगाया है। अमेरिका में थॉमस एडिशन ने लगाए शोध के कारण उन्हें ” जादूगर ” कहते है। थॉमस एडिसन कभी स्कुल नहीं गए  विद्युतशास्त्र की पढ़ाई नहीं की उन्हों ने अपने कल्पनाशक्ति के माध्यम से करके दिखाया।

Thomas Edison researcher:थॉमस एडिसन अनुसंधान कर्ता

Introduction to Thomas Addison|थॉमस एडिसन का परिचय 

  • नाम :- थॉमस अलव्हा एडिसन
  • जन्म दिनांक :- 11 फरवरी 1847
  • जन्म स्थल :- ओहिओ संस्थान के मिलन गांव में हुआ है।
  • पिताजी का नाम :- सैम्युअल
  • माताजी का नाम :- नॅन्सी

यह भी पढ़े: Thomas Edison researcher

Thomas Edison’s Family Life | थॉमस एडिसन का पारिवारिक जीवन 

थॉमस अल्व्हा एडिसन इस थॉर शास्त्रज्ञान का जन्म अमेरका के ओहिओ संस्थान के ” मिलन ” गांव में 11 फरवरी 1847 को हुआ है। थॉमस एडिसन के पिताजी सैमुएल एडिसन जहाज को लगनेवाली फली बनाता था।  उनकी माताजी टीचर थी।

सैम्युलर एडिसन का एक दोस्त था उनका यह दोस्त एरी झील के जहाज का मालक था। कैप्टन अल्व्हा ब्रैडले इनके स्मरणार्थ थॉमस एडिसन अपने पिताजी का नाम न लिखते हुए अल्व्हा यह नाम लिखता है।थॉमस एडिसन बचपन से ही  उपद्र्व्यापी था इसलिए उसे स्कुल में भेजने के बाद भी उसे कुछ नहीं आता था। टीचर के पढ़ाई के तरफ उसका ध्यान नहीं रहता था।

टीचर को कुछ प्रश्न पूछ के टीचर को भ्रमित करता था। उसका मन ज्यादा तर कोई भी वस्तु का निर्माण कैसे होता है उसके तरफ रहता था।याने की मै ने यह वस्तु तयार करना चाहिए ऐसा थॉमस एडिसन को लगता था। स्कुल में थॉमस का पढ़ाई के तरफ ध्यान नहीं था उसे कुछ नहीं समझता था कक्षा में थॉमस पढ़ाई में  बहुत ही लो था इसी कारण थॉमस को तीन महीने के अंदर ही स्कुल से निकाल दिय और थॉमस ने स्कुल जाना बंद कर दिया थॉमस का स्कुल छूटा लेकिन पढ़ाई करने का रास्ता बंद नहीं हुआ। थॉमस को गणित नहीं समझता था इसलिय थॉमस दूसरों का सहारा लेता था क्यों की उसे गणित नहीं आता था।

थॉमस के ममी – पापा ने उसे पढ़ाया। थॉमस ने पढ़ाई करना चाहिए इसलिए उसे बक्षिस देते थे इस कारण थॉमस ने उम्र के 12 साल तक इंग्रजी की बुक और वर्ड याद किया।

थॉमस एडिशन का जीवन प्रवास | Thomas Editions Life Journey

  • 11 फरवरी 1847 अमेरिका के ओहिओ संस्था के मिलं गांव में जन्म
  • सन1862 – स्टेशनमास्टर के लड़के को गाड़ी में आने से बचाया इसलिए तार यंत्र का काम शिकन।
  • सन 1869 पोप एडिसन कम्पनी की स्थापना मतमोजणी यंत्र की सुरुवात
  • 1874 ” क्वाड्प्लेक्स ” इलेक्ट्रिक टेलीग्राम सुधारित यंत्र तैयार किया
  • 1876 मेनलो पार्कल को स्थलांतर और टेलीफोन से स्पष्ट आवाज
  • 1877 फोनोग्राफ का शोध
  • 1878 बिजली का दिया तैयार करने को सुरुवात
  • 1880 इलेक्ट्रॉनिक रेलवेगाडी के इंजिन का शोध
  • 1887 वेस्ट ऑरेंज में प्रयोगशाला का निर्माण
  • 1889 फिल्म का कैमरा , विद्युत्पादक यंत्र और बिजली का बल्प
  • 1931  18 अक्टुंबर  को उम्र के 84 वे साल में निधन।
थॉमस एडिसन का पहिला प्रयोग / Thomas Edison’s first experiment

छोटे बच्चों के ऊपर ममी- पापा के गुणों का बहुत ही असर होता है। थॉमस एडिसन के ममी- पापा में शोध करने की कला थी और माता-पिताकी कला देख-देख के थॉमस की शोध करने की जिज्ञासा बढ़ती ही थॉमस कोई भी प्रयोग आसानी से करता था।

थॉमस एडिसन के भेजे में एक बार प्रयोग की कृति बैठी की वह प्रयोग करता था। थॉमस ने एक बुक में पढ़ा था की आदमी वजन से हलका होने के बाद हवा में उड़ सकता है  यह प्रयोग  उसने अपने दोस्त पर किया उसका दोस्त पढ़ा-लिखा नहीं था उसको कुछ नहीं समझता था उसको जुलाब की दवाई पिलाई अपने दोस्त को कहा की तू थोड़ी देर में हवा में उड़ने लगेगा इस बात से उसका दोस्त बहुत खुश हुआ लेकिन थोड़ी देर बाद उसका दोस्त जमीन पर लेटकर पेठ में बहुत दर्द होता है ऐसा कहने लगा और थॉमस का यह नजारा देख के उसके पिताजी ने उसकी बहुत पिटाई किया।

यह भी पढ़े: दयालु बुढ़िया (बैग का रहस्य-Secret of bag)

उम्र के आठ साल से थॉमस ने अपने प्रयोग करना चालू किया। घर के तलघर में बहुत ही रसायन की बोतले थी और कुछ सामग्री, सामान था इसी सामान के साथ थॉमस ने प्रयोग करना चालू किया।

थॉमस के पिताजी जहाज के लिए लगने वाली फड़ी बनाने का काम करता था। उसके बाद रेलवेगडी चालू हुई और उनके रोजी-रोटी पर मार गिरा और सैम्युलर एडिशन को काम नहीं मिलता था उसके बाद मिलन छोड़ के एडिसन अपने परिवार के साथ मिशीगान संस्था के पोर्ट हुशन इस गांव में स्थाई हुए।

प्रयोग के लिए थॉमस को सामान लगता था सामान खरीदने के लिए उनके पास पैसे नहीं रहते थे लेकिन उनके मातापिता खाऊ के लिए पैसे देते थे उस पैसे को इकट्ठा करके थॉमस अपने प्रयोगशाला का सामान खरीदने के लिए रखता था। थॉमस के मन में कुछ विचार चल रहा था की मैं ने खुद पैसे कामना चाहिए इसलिए रेलवेगाडी में न्यूज पेपर बाटना, फल बेचना, खाने के लिए मिठाई बेचना यह काम करने का निचय किया और अपने मम्मी को बताया और अपना काम चालू किया।

यह भी जरूर पढ़े:
थॉमस एडिसन का प्रेरक लेख

थॉमस एडिसन का बल्प आविष्कार

महानायक वीर बिरसामुंडा

डॉ. विक्रम साराभाई 

डॉ. होमी भाभा 

संत गाडगेबाबा की जीवनी  

Leave a Reply

error: Content is protected !!